पुरिस्म लेकर आ रही है दुनिया का सबसे सिक्योर स्मार्टफोन, एंड्राइड और IOS की छुट्टी

Purism नाम की कंपनी बना रही है TRUE लिनक्स स्मार्टफोन जिसका नाम Librem 5 रखा जायेगा. लिनक्स के दो सबसे बड़े डेस्कटॉप एनवायरनमेंट प्रोवाइडर GNOME और KDE इसे पूरी तरह सपोर्ट कर रहें हैं. Purism कंपनी ने फण्ड रेजिंग के लिए एक बोली लगाने की कैंपेन शुरू की है जिसका लक्ष्य $1.5 मिलियन इकठ्ठा करना है, जिसके बाद ही वह लिनक्स सिक्योर स्मार्टफोन पर काम को शुरू करेंगे.

इस लिनक्स फ़ोन में सिक्यूरिटी को सबसे ज्यादा महत्व दिया जायेगा, वैसे भी लिनक्स दुनिया का सबसे सिक्योर ऑपरेटिंग सिस्टम है. फ़ोन पूरा ओपन सोर्स प्रोजेक्ट है, जिसमे आपको एंड टू एंड एन्क्रिप्शन और बेहतर यूजर प्रोटेक्शन मिलेगा, जो मार्केट में अपनी तरह का फ़ोन पहला फ़ोन होगा. फोन में 5 inch की फुल HD डिस्प्ले होगी, सभी नेटवर्क को सपोर्ट करेगा और प्राइवेसी प्रोटेक्शन डिफ़ॉल्ट फीचर होगा|

KDE इस प्रोजेक्ट में अपना प्लाज्मा मोबाइल दे रहा है मतलब KDE द्वारा डेवलप किया गया पूरा मोबाइल लिनक्स सिक्योर ऑपरेटिंग सिस्टम एनवायरनमेंट है जो मोबाइल ग्राफ़िक को सपोर्ट करेगा. वहीं GNOME ने इस फोन के लिए एमुलेटर और टूल्स के साथ और भी बहुत कुछ डेवलप करने का प्लान किया है.

दूसरी ओर GNOME सिस्टम को स्पीड देने का काम भी करेगा. कंपनी के पास अब तक 47% का फण्ड इकठ्ठा हो गया है. वहीं प्युरिज्म का लिब्रम 5 स्मार्टफोन जो की एक लिनक्स बेस्ड सिक्योर फ़ोन होगा जिसकी वजह से लोगों के हाथ जो आईओएस और android में बंधे थे, वह खुल जायेंगे और वह एक नए सिस्टम का अनुभव करेंगे जो पूरी तरह उनके इशारों पर चलेगा और इसमें किसी तरह का कोई झमेला भी नहीं होगा.

फ़ोन में सब कुछ यूजर पर डिपेंड करेगा, की वह इस फ़ोन को कैसे इस्तेमाल करता है या किस तरह से कस्टमाइज करता है. यूजर इस फ़ोन को हैकिंग डिवाइस की तरह भी इस्तेमाल कर पाएंगे और इससे नार्मल कॉल भी कर पाएंगे.

दोस्तों उम्मीद करते हैं आपको यह जानकारी पसंद आई होगी, ऐसी ही और भी लेटेस्ट और यूनिक जानकारी के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर और YouTube पर फॉलो करे.

Vivek Kushwaha

Vivek Kushwaha

Vivek Kushwaha is a tech blogger, youtuber, webmaster, engineer, and gadget reviewer. He is young boy of 19 years old. His hobby is finding new tech things & presently completed his diploma in civil engineering.

Leave a Reply

shares