What is On-Page SEO? | SEO 2018 Hindi

1
119
views
on-page seo

सभी की SEO स्ट्रेटेजी होती है की उनका पेज सर्च इंजन में सबसे ऊपर रैंक हो| ऐसा करने के लिए हम सभी ऐसा कंटेंट और पेज बनाते हैं जिसे गूगल की सीक्रेट अल्गोरिथम आसानी से सबसे ऊपर रैंक कर सके| सीधे शब्दों में यही SEO (Search Engine Optimization) कहलाता है| SEO को दो भागों में बनता गया है – On-page SEO और Off-page SEO, वहीँ इस आर्टिकल में हम इन्ही दोनों के बीच का अंतर जानेंगे और बात करेंगे On-page SEO के सभी जरुरी फैक्टर्स के बारे में…

यह भी पढ़ें: What is SEO | Search Engine Optimization? | SEO 2018 Hindi

Article Contents

On-page Vs off-page SEO

On-page factors में वह सभी चीजें सामिल है जो आपकी वेबसाइट पर हैं जैस- टेक्निकल सेटअप, कोड की क्वालिटी, ग्राफिकल डिजाईन और यूजर फ्रेंडली कंटेंट वहीँ बात करें off-page factors की तो इसमें है किसी दूसरी वेबसाइट पर पड़े आपके वेबसाइट के रेफरेंस लिंक, सोशल मीडिया एक्टिविटी, और मार्केटिंग प्लान जो आपकी वेबसाइट से बहार काम करता है| अगर आप ऑफ़ पेज SEO पर ज्यादा फोकस करेंगे तो पता चलेगा की दूसरी किसी वेबसाइट पर पड़े लिंक की आपको ज्यादा जरुरत है| वहीँ अगर आप मिलते – जुलते कंटेंट के लिए किसी अच्छी रैंक वाली वेबसाइट पर अपने लिंक छोड़ पाते हैं तो यह गूगल में आपको रैंकिंग को बढ़ा देगा|

यह भी पढ़ें: White Hat SEO vs Black Hat SEO

what is seo? seo kya hai? on-page seo kya hota hai? what is on page seo?

On-page SEO की जरूत

On-page SEO में वह सभी चीज़े सामिल है जिन्हें आप वेबसाइट के मालिक होने के नाते कण्ट्रोल कर सकतें हैं| जैसे की सभी टेक्निकल प्रॉब्लम और आपकी वेबसाइट पर पड़ा कंटेंट, जिसे आप आसनी से ठीक कर सकतें हैं| अगर आप एक शानदार वेबसाइट बनाते हैं तो वह अपने आप रैंक करने लगेगी, वहीँ अगर आप अपनी On-page SEO पर फोकस करेंगे तो यह आपकी Off-page SEO स्ट्रेटेजी को सफल बना देगा| क्योंकि कोई भी वेबसाइट डेवलपर अपनी वेबसाइट पर किसी ऐसी साईट का लिंक क्यों देगा जिसका कंटेंट अच्छा और सही नहीं है|

यह भी पढ़ें: Search Engine (सर्च इंजन) कैसे काम करता है? Google | Yahoo | Bing | Baidu

Essential on-page SEO factors

On-page SEO के 3 मेजर फैक्टर्स हैं, आइये जानतें हैं तीनो फैक्टर्स के बारे में:-

टेक्निकल ज्ञान

WordPress हो या फिर Blogger या कोई और CMS लगभग सभी SEO फ्रेंडली प्लेटफॉर्म्स हैं| बस आपके कोड की क्वालिटी साफ़ और अच्छी होनी चाहिए| आजकल ज्यादातर लोग ऑनलाइन शुरुआत के लिए WordPress का इस्तेमाल करते हैं, यह सभी भी है क्योंकि यहाँ आपको बहुत सी फ्री थीम और प्लगइन मिल जाते हैं जो आपका मुस्किल काम आसान कर देते हैं| अगर आपको SEO करने में दिक्कत हो रही है तो आप Yoast SEO का फ्री वर्शन का इस्तेमाल कर सकतें हैं ये आपका मुस्किल काम आसान कर देगा|

शानदार कंटेंट (Content)

क्या अपने कभी सोचा है की अपने यह साईट क्यों खोली है? इसका कारण है इनफार्मेशन जो आपको चाहिए| तो बात सीधी सी है जितना अच्छा आपकी वेबसाइट का कंटेंट होगा उतने ही अच्छे सर्च रिजल्ट भी सामने होंगे| गूगल जैसे सर्च इंजन के आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस वाले बोट्स आपकी साईट पर पड़े कंटेंट का विश्लेषण करते है और तभी उसे रैंक करना है या नहीं ये तय होता है| ऐसा करने के लिए आपको सभी कीवर्ड का चुनाव कर उस टॉपिक पर अपना लेख ऐसे लिखना है की वह पढने और समझने में आसान हो|

यूजर एक्सपीरियंस (UX)

On-page SEO का तीसरा और आखिरी फैक्टर है वो है शानदार यूजर एक्सपीरियंस, जिसमे सामिल हैं कि जैसे की कोई भी यूजर आपकी साईट को खोले उसे सभी चीजें समझ आ जानी चाहिए कि उसे कहाँ क्लिक करना है और कैसे नेविगेट करना है| अच्छे यूजर एक्सपीरियंस के लिए आपकी साईट की लोडिंग स्पीड भी तेज़ होनी चाहिए, यह रैंकिंग का एक अहम पॉइंट है| एक अच्छी डिजाईन वाली साईट तो ठीक है पर अच्छा यूजर एक्सपीरियंस हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए|

दोस्तों उम्मीद करते हैं आपको यह जानकारी पसंद आई होगी| अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो कमेंट में बतायें| ऐसी ही अपडेट के लिए आप हमे YouTube पर सब्सक्राइब करें| आप हमें Facebook और Twitter पर भी फॉलो कर सकतें हैं|

Comments

comments

1 COMMENT

Leave a Reply